Al Hakam Meaning in Hindi | अल हकम नाम के फायदे

अस्सलाम अलैकुम दोस्तों, इस वेबसाइट पर 99 names of allah का सीरीज स्टार्ट किया गया है जिसमे अल्लाह के 99 नाम के बारे में बताया जा रहा है जिसमे आज आपको Al Hakam के बारे में सिखने को मिलने वाला है.

आज आपको जानने को मिलेगा Al Hakam का मतलब क्या है, इसे कब और कितनी बार पढना चाहिए, और इसे पढने से क्या फायदा होने वाला है.

Al Hakam Meaning in Hindi

الْحَكَمُ
AL-HAKAM
(फैसला करने वाला)

वो है के जो अपनी मखलूक के दरमियान निहायत अदल वा इंसाफ से फैसल फरमाता हैं, इनमे से किसी एक पर भी अदना तरीन ज़ुल्म नहीं करता, अल्लाह ही ने अपनी किताब नज़िल फरमाई ताकि वो लोगों के दरमियान फैसला कर सके।

अल हकम को कब पढ़े?

Al Hakam पढने के लिए कोई भी समय मुक़र्रर नहीं है जब आपके पास समय हो पढ़ सकते है लेकिन बेहतर ये होता है की किसी भी नमाज़ के बाद पढ़े.

क्युकी नमाज़ के बाद पढने का मतलब यही है की आप पाक व साफ़ वजू के साथ होते है और इस हालत में पढ़ते है तो दुआ कुबूल होने का ज्यादा चांस ज्यादा होता है.

अगर आप चाहे तो नमाज़ के बाद अल मालिक को 100 बार पढ़ सकते है.

अल हकम के फायदे और वजीफा क्या है?

benefits of reciting Al Hakam

  • ये नाम अगर कोई हर नमाज़ के बाद 80 बार को पढ़ता है तो इंशाअल्लाह वो गनी हो जायेगा और किसी का मोहताज नहीं रहेगा.
  • अल्लाह के बराबर कोन हिकमत वाला है ! इस नाम को अगर कोई रोज़ाना पढ़े, तो कभी किसी जरुरत में परेशां ना हो! जो शख़्स जुमा की शब् में इस इस्मे पाक को इस कदर पढ़े की बेखुद हो जाए अल्लाह उसके बातिन को मा आने असरार करे.
  • जो कोई जुमा की रात में आधी रात को ये नाम पढ़ेगा, अल्लाह तआला उसके बातिन को पाक साफ़ कर देगें
  • जो पाँचों वक़्त हर नमाज़ के बाद 80 बार इस नाम को पढ़ लिया करे, वो किसी का मोहताज नहीं होगा


Rate this post

Leave a Comment