Al Haleem Meaning in Hindi | अल हलीम नाम के फायदे

अस्सलाम अलैकुम दोस्तों, इस वेबसाइट पर 99 names of allah का सीरीज स्टार्ट किया गया है जिसमे अल्लाह के 99 नाम के बारे में बताया जा रहा है जिसमे आज आपको Al Haleem के बारे में सिखने को मिलने वाला है.

आज आपको जानने को मिलेगा Al Haleem का मतलब क्या है, इसे कब और कितनी बार पढना चाहिए, और इसे पढने से क्या फायदा होने वाला है.

Al Haleem Meaning in Hindi

الْحَلِيمُ
AL-HALEEM
(निहायत बुरदबार)

अल्लाह वो है के जो अपनी बनाए कायनात की तमाम मखलोक़ात की सभी बारिकियों को बा-खुबी जाने वाला है, लोगों से छुपा हुआ कोई भी मामला अल्लाह से छुपा हुआ नहीं है।

अल हलीम को कब पढ़े?

Al Haleem पढने के लिए कोई भी समय मुक़र्रर नहीं है जब आपके पास समय हो पढ़ सकते है लेकिन बेहतर ये होता है की किसी भी नमाज़ के बाद पढ़े.

क्युकी नमाज़ के बाद पढने का मतलब यही है की आप पाक व साफ़ वजू के साथ होते है और इस हालत में पढ़ते है तो दुआ कुबूल होने का ज्यादा चांस ज्यादा होता है.

अगर आप चाहे तो नमाज़ के बाद अल मालिक को 100 बार पढ़ सकते है.

अल हलीम के फायदे और वजीफा क्या है?

benefits of reciting Al Haleem

  • जो कोई इस नाम को कागज़ पर लिख कर फिर उसक को धोये और पानी अपनी खेती पर छिड़क दे, तो इंशाअल्लाह खेती की हर आफत से हिफ़ाज़त रहेगी
  • दरख़्त लगते वक़्त अगर इस अल्लाह के नाम को 28 बार पढ़ ले तो इंशाअल्लाह वो पौदा खूब लहलहाएगा
  • कोई शख्स अगर अपनी लगायी गयी खेती की हर आफ़त से हिफ़ाज़त करना चाहता है तो उसे चाहिए कि इस नाम को कागज़ पर लिखे और फिर उस कागज़ को पानी से धोये, और उस धुले हुए पानी को अपनी खेती पर छिड़क दे, इंशाअल्लाह खेती महफूज़ रहेगी
  • बीमार के सिरहाने सूरह फातिहा एक बार या हलीमु 11 बार पढ़कर दम करे सही व तंदुरुस्त हो जाए! और इख़्तेलाज़े क़ल्ब के लिए सीने पर हाथ रखकर 200 बार पढ़े ! शिफा हो!


5/5 - (3 votes)

Leave a Comment