Al Hameed Meaning in Hindi | अल हमीद नाम के फायदे

अस्सलाम अलैकुम दोस्तों, इस वेबसाइट पर 99 names of allah का सीरीज स्टार्ट किया गया है जिसमे अल्लाह के 99 नाम के बारे में बताया जा रहा है जिसमे आज आपको Al Hameed के बारे में सिखने को मिलने वाला है.

आज आपको जानने को मिलेगा Al Hameed का मतलब क्या है, इसे कब और कितनी बार पढना चाहिए, और इसे पढने से क्या फायदा होने वाला है.

Al Hameed Meaning in Hindi

الْحَمِيدُ
AL-HAMEED
(खूबियों वाला)

अल्लाह वो है के जो अपने तमाम ख़ूबसूरत अस्मा वा बुलंद सिफ़ात और उमदा अफल में महमूद है, अल्लाह ही की आली शान ज़ात है के जिसकी असानी और तंगी नेज़ सक़्ती और अजमाइशमें खूब तारीफें की जाती है, हर तरह की तारिफें इसी के लायक है और वही इन तारीफों के अकेला मुस्तहिक भी है, क्यों के वो हर कमाल के साथ मुतासिफ है।

अल हमीद को कब पढ़े?

Al Hameed पढने के लिए कोई भी समय मुक़र्रर नहीं है जब आपके पास समय हो पढ़ सकते है लेकिन बेहतर ये होता है की किसी भी नमाज़ के बाद पढ़े.

क्युकी नमाज़ के बाद पढने का मतलब यही है की आप पाक व साफ़ वजू के साथ होते है और इस हालत में पढ़ते है तो दुआ कुबूल होने का ज्यादा चांस ज्यादा होता है.

अगर आप चाहे तो नमाज़ के बाद अल मालिक को 100 बार पढ़ सकते है.

अल हमीद के फायदे और वजीफा क्या है?

benefits of reciting Al Hameed

  • अगर कोई फ़ज्र की नमाज़ के बाद अल्लाह के इस नाम को पढ़ कर हाथ पर दम करके चेहरे पर फेर लिया करे तो यक़ीनन अल्लाह तआला उसे इज्ज़त और चेहरे का नूर अता फ़रमाएंगे
  • अगर कोई बेहूदा और गन्दी बातों का आदी हो और चाह कर भी न इस से न बच पता हो तो उसे चाहिए कि एक प्याले पर अल्लाह के इस नाम को लिखे और इस नाम को 90 बार पढ़ कर उस पर दम भी करे और हमेशा इसी प्याले से पानी पिए तो इंशाअल्लाह इस बेहूदगी से हिफ़ाज़त हो जाएगी
  • जो शख्स हकलाता हो और उसकी जुबान मेहफ़ूज़ ना रहती हो वो इस नाम पाक को प्याले में लिखे या प्याले में गुड़ाई करके लिखवाले और फिर उसी प्याले से पानी पिए!
  • जो शख्स 45 दिन तक लगातार 93 बार तन्हाई में या हमीदु पढ़ा करे तो उसकी तमाम बुरी आदतें इंशाअल्लाह दूर हो जाएँगी
  • जो बहुत ही गन्दी और बुरी बातें करने का आदी हो, और इस से बच न पा रहा हो, तो वो प्याले पर इस नाम को लिखे फिर 90 बार पढ़ कर दम करे और हमेशा इस प्याले में पानी पिया करे तो इंशाअल्लाह इन बुरी चीज़ों से महफूज़ हो जायेगा
  • जो फ़ज्र के बाद ये नाम पढ़कर हाथ पर दम करके चेहरे पर फेर लिया करे अल्लाह तआला उसे इज्ज़त, नुसरत और चेहरे का नूर अता फ़रमाएंगे
  • जो इस नाम को फ़र्ज़ नमाज़ के बाद 100 बार पढने का रूटीन बना ले वो इंशाअल्लाह नेक लोगों में शुमार होगा
  • सूरह फ़ातिहा के बाद ये नाम लिख कर किसी मरीज़ को पिलाने से शिफ़ा मिलती है


5/5 - (2 votes)

Leave a Comment