AL Mutakabbir Meaning in Hindi |अल मुतकब्बिर नाम के फायदे

5/5 - (1 vote)

अस्सलाम अलैकुम दोस्तों, इस वेबसाइट पर 99 names of allah का सीरीज स्टार्ट किया गया है जिसमे अल्लाह के 99 नाम के बारे में बताया जा रहा है जिसमे आज आपको AL Mutakabbir के बारे में सिखने को मिलने वाला है.

आज आपको जानने को मिलेगा AL Mutakabbir का मतलब क्या है, इसे कब और कितनी बार पढना चाहिए, और इसे पढने से क्या फायदा होने वाला है.

AL Mutakabbir Meaning in Hindi

الْمُتَكَبِّرُ
AL-MUTAKABBIR
(बड़ाई वाला)

अल्लाह अज़ीम है और अपनी तमाम बातों और कामों में बुराई से, नक़्स खामी से भूल चुक से नींद से कमज़ूरी वा बेबसी से कोसों दूर है, अपनी किसी भी मखलूक पर अदना तरीन ज़ुल्म करने से बहुत बुलंद है अपनी मखलूक पर पूरा कबू रखने वाला है, मखलूक में से अगर कोई बडाई की सिफत को अल्लाह से छीनने की जुर्रत करेगा तो अल्लाह इसके टुकड़े कर देगा और इसे अज़ाब देगा।

He (Allah) sets forth for you a parable from your own selves: do you have partners among those whom your right hands possess (i.e. your slaves) to share as equals in the wealth that We have bestowed on you whom you fear as you fear each other? Thus do We explain the Signs in detail to a people who have sense. (30: 28)

अल मुतकब्बिर को कब पढ़े?

AL Mutakabbir पढने के लिए कोई भी समय मुक़र्रर नहीं है जब आपके पास समय हो पढ़ सकते है लेकिन बेहतर ये होता है की किसी भी नमाज़ के बाद पढ़े.

क्युकी नमाज़ के बाद पढने का मतलब यही है की आप पाक व साफ़ वजू के साथ होते है और इस हालत में पढ़ते है तो दुआ कुबूल होने का ज्यादा चांस ज्यादा होता है.

अगर आप चाहे तो नमाज़ के बाद अल मालिक को 100 बार पढ़ सकते है.

अल मुतकब्बिर के फायदे और वजीफा क्या है?

  • जो भी इस नाम का विर्द करेगा इंशाअल्लाह ख्वाब में नहीं डरेगा.
  • जो दुश्मन से डरता हो वो इस नाम को पढ़ा करे, दुश्मन की बदगोई से महफूज़ हो जायेगा.
  • किसी की बेहयाई रोकने के लिए इस नाम को उस पर 10 बार पढ़ने से बहुत फ़ायदा होगा.
  • जो कोई बीवी से हमबिस्तरी से पहले 10 बार ये नाम पढ़े अल्लाह तआला उसे नेक और परहेज़गार औलाद अता फरमाते हैं.
  • जब भी कोई नया काम शुरू करे तो इस नाम का विर्द करे इंशाअल्लाह कामयाब हो जाओगे.
  • जुम्मा (Jumma) से पहले 10 मर्तबा पढ़ने से फ़रज़न्द, बेटा नसीब हो !  इंशा अल्लाह !


Sharing Is Caring:

Leave a Comment