As Salam Meaning in Hindi |अस सलाम के फायदे

5/5 - (1 vote)

अस्सलाम अलैकुम दोस्तों, इस वेबसाइट पर 99 names of allah का सीरीज स्टार्ट किया गया है जिसमे अल्लाह के 99 नाम के बारे में बताया जा रहा है जिसमे आज आपको As Salam के बारे में सिखने को मिलने वाला है.

आज आपको जानने को मिलेगा As Salam का मतलब क्या है, इसे कब और कितनी बार पढना चाहिए, और इसे पढने से क्या फायदा होने वाला है.

As Salam Meaning in Hindi

السَّلاَمُ
AS-SALAM
(सलामती वाला)

अल्लाह वो है के जो अपनी बे-मिसाल जात अपने बुलंद औसाफ और अपने खूबसूरत नाम और अपने तमाम उम्दाह कामो में सलामती वाला है और दुनिया वा आखिरत की हर सलामती अल्लाह ही की मिल्कियत है और तमाम मखलोक़ात को हर चीज़ से महफूज़ वा सलामत रखने वाला है जो मखलूक़ को नुक़सान पहुँचाने वाली है।

अस सलाम को कब पढ़े?

As Salam पढने के लिए कोई भी समय मुक़र्रर नहीं है जब आपके पास समय हो पढ़ सकते है लेकिन बेहतर ये होता है की किसी भी नमाज़ के बाद पढ़े.

क्युकी नमाज़ के बाद पढने का मतलब यही है की आप पाक व साफ़ वजू के साथ होते है और इस हालत में पढ़ते है तो दुआ कुबूल होने का ज्यादा चांस ज्यादा होता है.

अगर आप चाहे तो नमाज़ के बाद अल मालिक को 100 बार पढ़ सकते है.

अस सलाम के फायदे और वजीफा क्या है?

  • जो हमेशा सुबह की नमाज़ के बाद इस नाम 1000 बार पढ़े तो उसके इल्म में इज़ाफ़ा होगा
  • अगर कोई इन्सान इस नाम को 131 बार पढ़ कर बीमार पर दम करे, तो बीमार सेहत पा जायेगा
  • जो कोई इस नाम को खूब पढ़े या लिखकर अपने पास रखे वह दुश्मन से बेखौफ़ रहेगा
  • बीमार या डरा हुआ शख्स अगर 111 बार पढ़ कर दम करें तो बीमारी और खौफ से महफूज रहेगा
  • यह नाम 690 बार शीरीनी पर पढ़ कर दुश्मन को खिलाएं तो दुश्मन मेहरबान हो जाए
  • जो कोई खूब इस नाम को पढ़ता रहेगा इंशाल्लाह तमाम आफ़तों से महफूज रहेगा
  • हर फर्ज नमाज के बाद 15 मर्तबा “अल्लाहुम्मा या सलामु सल्लिम” पढ़ना हर तरह की सलामती के लिए फायदेमंद है
  • अगर कोई शख्स मरीज के पास उसके सरहाने बैठ कर दोनों हाथ उठाकर यह नाम 136 बार इतनी बुलंद आवाज से पड़ेगी कि मरीज़ सुन ले तो इंशाल्लाह उसको शिफा होगी
  • या सलामु 125,000 बार पढने से कैंसर या कोई बड़ा बीमारी ठीक हो जाएगा
  • यदि कोई इंसान बेहोश हो जाए तो उसके पास बैठकर 300 बार या रहमानु या सलामु का विर्द करें। इंशाअल्लाह वह अच्छा हो जाएगा।


Sharing Is Caring:

Leave a Comment