Hashr Me Fir Milenge Mere Dosto Lyrics

Hashr Me Fir Milenge Mere Dosto Lyrics:- This Beautiful Naat is loved by many people and sang this Naat in such a pleasant and melodious voice.

Hashr me fir Milenge mere Dosto Lyrics in English

Hashr mein fir milenge mere doston
Bas yahi hai makam aakhari aakhari

Kehna sab jiteji ke hein shikwe gile
Aaj se khatm duniya ke sab silsile
Sham’a dhalne ko hai dam nikalne ko hai
Ab hai kissa tamam akhari akhari
Hashr mein fir milenge mere doston

Mujko nehla ke pehna diye hein kafan
Ro chuke milke maa baap bhai bahen
Maut bhi doston aaj hairat mein hai
Ab hai kissa tamam akhari akhari
Hashr mein fir milenge mere doston

Khushbuon mein kafan ko basane lage
Meri mayyat ko dulhan ko banane lage
Doston ab uthao janaza mera
Ho chuka intezam akhari akhari
Hashr mein fir milenge mere doston

Mujko zere zameen yaar dafna gaye
Kis kadar sang dil hoke farma gaye
Doston chain ki nind sote raho
Bas yahi hai makam akhari akhari
Hashr mein fir milenge mere doston

Kesi duniya hai Khurshid gazab re gazab
Chand dinon mein yaha bhul jaate hein sab
Jis bahane meri yaad aajaye to
Padne laga ye kalam akhari akhari
Hashr mein fir milenge mere doston

Zindagi ne jahan tak wafa ki rahi
Chal diye ab salam akhari akhari
Hashr mein fir milenge mere doston

हश्र में फिर मिलेंगे मेरे दोस्तों Lyrics

हश्र में फिर मिलेंगे मेरे दोस्तों
बस यही है मक़ाम आखरी आखरी

केहना सब जीतेजी के हैं शिक़वे गिले
आज से ख़त्म दुनियां के सब सिलसिले
शम्मअ ढलने को है दम निकलने को है
अब है किस्सा तमाम आखरी आखरी

हश्र में फिर मिलेंगे मेरे दोस्तों
बस यही है मक़ाम आखरी आखरी

मुझको नहला के पहना दिया है क़फ़न
रो चुके मिलके माँ बाप भाई बहन
मौत भी दोस्तों आज हैरत में है
अब है किस्सा तमाम आखरी आखरी

हश्र में फिर मिलेंगे मेरे दोस्तों
बस यही है मक़ाम आखरी आखरी

खुश्बुओं में क़फ़न को बसाने लगे
मेरी मैय्यत को दुल्हा बनाने लगे
दोस्तों अब उठाओ जनाज़ा मेरा
हो चुका इंतजाम आखरी आखरी

हश्र में फिर मिलेंगे मेरे दोस्तों
बस यही है मक़ाम आखरी आखरी

मुझको ज़ेरे ज़मीन यार दफ़ना चले
किस कदर संगदिल होके फरमा चले
दोस्तों चैन की नींद सोते रहो
बस यही है मक़ाम आखरी आखरी

हश्र में फिर मिलेंगे मेरे दोस्तों
बस यही है मक़ाम आखरी आखरी

कैसी दुनिया है ख़ुर्शीद गज़ब रे गज़ब
चंद दिनों में यहाँ भूल जाते हैं सब
जिस बहाने मेरी याद आजाये तो
पढ़ने लगा ये कलाम आखरी आखरी

हश्र में फिर मिलेंगे मेरे दोस्तों
बस यही है मक़ाम आखरी आखरी

ज़िन्दगी ने जहां तक वफ़ा की रही
चल दिए अब सलाम आखरी आखरी

हश्र में फिर मिलेंगे मेरे दोस्तों
बस यही है मक़ाम आखरी आखरी

Hashr Me Fir Milenge Mere Dosto MP3 Download

Hashr Me Fir Milenge Mere Dosto Lyrics Youtube Video

Hashr Me Fir Milenge Mere Dosto Lyrics

Read More:

Hashr me Fir Milenge Lyrics

When was Hashr Me Phir Milenge Mere Dosto Lyrics released?

Hashr Mein Phir Milenge is a urdu song released in 2012.

Which album is the song Hashr Mein Phir Milenge from?

Hashr Mein Phir Milenge is a urdu song from the album Farsh-E-Makhmal.

Who is the music director of Hashr Mein Phir Milenge ?

Hashr Mein Phir Milenge is composed by Haider Hassan.

Who is the singer of Hashr Mein Phir Milenge Lyrics?

Hashr Mein Phir Milenge is sung by Muzaffar Raza Arvi.

What is the duration of Hashr Mein Phir Milenge ?

The duration of the song Hashr Mein Phir Milenge is 9:27 minutes.

How can I download Hashr Mein Phir Milenge Lyrics?

You can download Hashr Mein Phir Milenge on NamazQuran.

We hope you understood the song Hashr Me Fir Milenge Mere Dosto Lyrics. If you have any issues regarding the lyrics of this song, please contact us. Thank You For Visiting my namazquran.com website, I hope you come! Again

5/5 - (3 votes)

Leave a Comment