Subrat Kab Hai | 2024 मे शबे बारात कब है पूरा अपडेट यहाँ पर मिलेगा

Subrat Kab Hai? 2024 में यह त्यौहार कब मनाया जाएगा। शबे बारात का महत्व क्या है? पूरी जानकारी 100% ऑथेंटिक इंफॉर्मेशन, आपको इस आर्टिकल में मिलेगा।

इस्लाम धर्म मे मुस्लिम लोग शब ए बारात को काफी बड़ा पर्व मानते है, जिसको शुभ रात या सुबरात भी कहा जाता है।

बहुत से लोगों को इसकी तारीख मे कन्फ़्युशन है, की शब ए बारात कौनसी दिन को होगी। लेकिन आप रजब की तारीख से भी Subrat का दिन निकाल सकते है।

हर साल मे इस्लामिक महीने की 14 तारीख को मुस्लिम समुदाये के लोग शब ए बारात का पावन पर्व बड़े ही हर्षो उ उल्लास से मनाते है, लेकिन इस बार 2024 मे शब ए बारात कौन से तारीख को है, तो आइए जानते है।

सुबरात क्या है?

सुबह-ए-काज़ी या सुबरात, इस्लाम धर्म का एक प्रमुख त्यौहार है जो रमजान के पवित्र महीने में आने वाली 27वीं रात को मनाया जाता है। यह एक नफिल इबादत होती है।

इस रात को मुस्लिम धर्म में ‘शब-ए-कद्र‘ के नाम से भी जाना जाता है, जिसका अर्थ ‘तकदीर की रात‘ होता है। मान्यता है कि इस रात अल्लाह आने वाले एक साल में होने वाली सभी घटनाओं और चीज़ों की तकदीर लिख देते हैं। इस वजह से इस रात को बहुत ही खास और पवित्र माना जाता है।

परंपरानुसार, सुबह-ए-काज़ी की रात को सभी मुसलमान पूरी रात जागकर इबादत करते हैं, क़ुरान पाक की तिलावत करते हैं और दुआ मांगते हैं। सुबह होते ही नमाज़ अदा की जाती है। फिर लोग एक-दूसरे को ‘सुबरात मुबारक’ कहकर मीठाइयाँ खिलाते हुए रमजान के महीने की ख़ुशी का जश्न मनाते हैं।

Subrat Kab Hai 2024

Subrat Kab Hai
Subrat Kab Hai

दोस्तों इस्लामिक तारीख के अनुसार शब-ए बारात/शबे बारात/सुबरात हर साल शबान की 14 तारीख को मनाया जाता है, सूरज के छिपने के बाद ही शब ए बारात का पर्व शुरू हो जाता है। तो चलिए जानते है, इस बार 2024 मे शब ए बारात की तारीख कौनसी होगी।

  • हर बार भी शब ए बारात शाबान के महीने से तारीख का पता लगेगा अगर इस बार शाबान का महिना 30 दिन का हुआ तो 24 फरवरी को Subrat मनाई जाएगी।
  • लेकिन अगर शाबान का महिना का 29 दिन का हुआ तो शब ए बारात को 25 फरवरी को सभी मुस्लिम लोग मना सकते है।
  • इसलिए अभी दोनों की तारीख को शाबान के महीने द्वारा ही पता चल सकेगा वैसे इन दोनों तारीख मे ही पक्का किया गया है, की सुबरात इनमे से एक दिन मे मनाई जा सकती है।
  • इसके अलावा अगर 24 फरवरी को शब ए बारात हुई तो आप अगले दिन यानि 25 फरवरी का रोजा रख सकते है।
  • अन्यथा 25 फरवरी को शब ए बारात का दिन हुआ तो आप अगले दिन यानि 26 फरवरी को रोज रख कर फिर 15 दिन बाद रमज़ानों का इंतेजार कर सकते है।

शब-ए-बारात कब होगा? 24 या 25 फरवरी 2024 

भारत में शब-ए-बारात कब शुरू होगा? 24 या 25 फरवरी को, इसको लेकर आप कंफ्यूजन में होंगे। दरअसल इस्लामिक महीने की शुरुआत चांद देखने से होती है।

अगर 24 मार्च को चांद नहीं दिखा तो, 30 दिनों के महीने की रवायत के अनुसार, शबे बारात 25 फरवरी को शुरू हो जाएगा।

रज्जब महीना 29 दिनों का होने पर – 24 फरवरी

 इस्लामिक तारीख अंग्रेजी तारीख
1 रज्जब13 जनवरी
214
315
416
517
618
719
820
921
1022
1123
1224
1325
1426
1527
1628
1729
1830
1931
2001 फरवरी
2102
2203
2304
2405
2506
2607
2708
2809
29 रज्जब10
01 शआबान11
0212
0313
0414
0515
0616
0717
0818
0919
1020
1121
1222
1323
14 शआबान24 फरवरी

रज्जब महीना 30 दिनों का होने पर – 25 फरवरी

 इस्लामिक तारीख अंग्रेजी तारीख
1 रज्जब13 जनवरी
214
315
416
517
618
719
820
921
1022
1123
1224
1325
1426
1527
1628
1729
1830
1931
2001 फरवरी
2102
2203
2304
2405
2506
2607
2708
2809
2910
30 रज्जब11
01 शआबान12
0213
0314
0415
0516
0617
0718
0819
0920
1021
1122
1223
1324
14 शआबान25 फरवरी

पिछले 15 सालों के रिकॉर्ड के अनुसार

हमारे पास 2010 से 2023 शब ए बारात की जानकारी है, जिनके के बीच होने वाले यह त्यौहार का लिस्ट नीचे दिया गया है। लिस्ट को देखने से साफ पता चलता है कि, हर साल 11 से 12 दिन पहले यह त्यौहार मनाया जाता है।

  • 2010 – 26 जुलाई
  • 2011 – 16 जुलाई
  • 2012 – 04 जुलाई
  • 2013 – 23 जून
  • 2014 – 12 जून
  • 2015 – 1 जून
  • 2016 – 21 मई
  • 2017 – 12 मई
  • 2018 – 1 मई
  • 2019 – 20 अप्रैल 
  • 2020 – 9 अप्रैल 
  • 2021 – 28 मार्च 
  • 2022 – 18 मार्च
  • 2023 – 7 मार्च
  • 2024 – 24/25 फरवरी

2024 में शबे बरात कितने तारीख को है? 

दोस्रो 2024 मे सुबरात की मुकम्मल तारीख शाबान के महीने के खतम होने के बाद ही पता लगेगी, क्युकी शाबान का महिना खतम होने के बाद रजब का महिना शुरू हो जाता है।

लेकिन हमारे पास Subrat की पुख्ता जानकारी है, शाबान का महिना खतम होने के बाद ही 24 या 25 फरवरी को शब ए बारात का पवन पर्व आप मना सकते है।

नाज़रीन आपको बता दूँ की शब ए मेराज कब है? यह 07 फरवरी को होगा। इसके बाद ही शब ए बारात होता है।

पहली बार दुनिया में शब-ए-बारात कब मनाया गया था?

दोस्तों शब ए बारात की ठोस या पुख्ता जानकारी किसी के पास नहीं है, की पहली बार शब ए बारात को कब मनाया गया था, लेकिन इस्लामिक परमपराओ के अनुसार शब ए बारात पैग़ंबर हज़रत मुहम्मद साहब से जुड़ी है।

लेकिन फिर भी ऐसा बताया जाता है, की उन्होंने इस्लाम को फैलाने के लिए काफी मेहनत की जगह जगह जाकर लोगों को समझाना चाहा, जिसे उनके काफी दुश्मन भी बने थे, लेकिन उन्होंने कभी किसी को अपना दुश्मन नहीं माना।

जब वो मक्का पहुचे तो मक्का के राजनीतिक शासकों खतरा महसूस होने लगा, पैग़ंबर हज़रत मुहम्मद साहब पर उन लोगों ने काफी दबाव बनाया, और उन्होंने आप को मक्का छोड़ने पर मजबूर कर दिया, जिसके बाद वो वहाँ से मदीना चले गए।

इसलिए 630 वी शताब्दी मे आप मक्का से लोटने की विशेष रात जिसे मुसलमान शब ए बारात को रूप मे मनाती है, इसलिए ये तारीख अरबी मे 630 वी शताब्दी बताई जाती है।

सवाल जवाब

सुबरात मे मुस्लिम क्या पढ़ते है?

सुबरात मे मुस्लिम पूरी रात अपनी इबादत मे मस्जिद और घरों मे मशगूल रहते है, कोई नफली नमाज पढ़ता है, तो कोई अपनों की मगफिरत की दुआ करता है, इसके अलावा कुरान पाक भी मुसलमान इस रात को पढ़ते है, और अपने गुनाहों की माफी अल्लाह से मांगते है।

शबे कद्र की रात को कौन कौन सी नमाज पढ़ी जाती है?

दोस्तों शबे कद्र की रात को कुरान शरीफ की तिलावत, नफ्ल नमाज़ (सालातुलतस्बीह, तहज्जुद की नमाज़) पढ़ी जाती है।

शब ए बारात के पीछे की कहानी क्या है?

शब ए बारात की रात को मुस्लिम लोग अपने मगफिरत कर गए लोगों के लिए दुआ करते है, इसी रात को अल्लाह अपने चाहने वालों से हिसाब-किताब करने आते है।

आज का आखिरी बातें

दोस्तों आपको हमारे द्वारा दी गई Subrat Kab Hai? की पूरी जानकारी को पढ़ कर अच्छा लगा होगा, हमने आपको 2024 मे होने वाली Subrat की पूरी तारीख की जानकारी दी है, जिसमे हमने शाबान और रजब की तारीख के अनुसार भी शब ए बारात को बताया है।

शआबान का महिना खत्म होते ही रमजान शुरू हो जाता है। इसी लिए बहुत सारे लोग पहले की 2024 में रमजान कब है? इसकी जानकारी यूट्यूब और गूगल पर सर्च करने लगते है। मगर शबे बारात के ठीक 15 दिन के बाद रमजान शुरू हो जाता है।

जब शबान का महिना खतम होगा आप फिर एक बार हमारी पोस्ट को इसकी मुकम्मल तारीख को जान सकते है, अन्यथा आप इस पोस्ट से बिल्कुल संतुष्ट हो चुके है, तो अपने दोस्तों और हबाबों को इसकी जानकारी दे सकते है।

इस पोस्ट को दोस्तों के साथ शेयर करे:
Shakil Ahmad

नमाज़क़ुरान.कॉम एक इस्लामिक वेबसाइट है जो शकील अहमद द्वारा 2021 में शुरू की गई है, ताकि दुनिया भर के लोगो तक ऑथेंटिक इस्लामिक दुआएं, नमाज़, कुरान और हदीस की रौशनी में जानकारी पहुंचाई जा सके।

Leave a Comment