Kabe ki Ronak Kabe ka Manzar Lyrics Hindi & English

Kabe ki Ronak Kabe Ka Manzar Full Lyrics are Ghulam Mustafa Qadri famous for their pleasant and melodious voice which is loved by millions of people regardless of religion, race, etc.

Kabe ki Ronak Kabe ka Manzar Lyrics

Kaabe ki ronak Kaabe ka manzar
Allahu Akbar Allahu Akbar
Dekhu to dekhe jau barabar
Allahu Akbar Allahu Akbar

Hairat se khud ko kabhi dekhta hu
Aur dekhta hu kabhi mai haram ko
Laya kahan mujhko mera muqaddar
Allahu Akbar Allahu Akbar

Hamd e Khuda se tar hai zabane
Kaano me rass ghoolti hai azaane
Bus ek sada aa rahi hai barabar
Allahu Akbar Allahu Akbar

Mangi hai maine jitni duae
Manzoor hongi maqbool hongi
Mizaab e Rehmat hai mere sar par
Allahu Akbar Allahu Akbar

Tere karam ki kya baat Maula
Tere haram ki kya baat Maula
Taa umr karde aana muqaddar
Allahu Akbar Allahu Akbar

Yaad aagayi jab apni khataye
Ashko me dhalne lagi iltijae
Roya Gilaf e Kaaba pakad kar
Allahu Akbar Allahu Akbar

Dekha Safa bhi Marwa bhi dekha
Rab ke karam ka jalwa bhi dekha
Dekha rawa ek saron ka samandar
Allahu Akbar Allahu Akbar

Kaabe ke upar se jaate nahi hai
Kisko sabak yeh sikhate nahi hai
Kitne moadab hai yeh kabutar
Allahu Akbar Allahu Akbar

Bheja hai jannat se tujhko Khuda ne
Chuma hai tujh ko khud mere Mustafa ne
Aye Hajr e Aswad tera muqaddar
Allahu Akbar Allahu Akbar

Jis par nabi ke kadam ko sajaya
Apni nishani keh ke bataya
Mehfooz rakha Rab ne yeh patthar
Allahu Akbar Allahu Akbar

काबे की रौनक काबे का मंजर

काअबे की रौनक़, काअबे का मंज़र
अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर
देखूं तो देखे जाऊं बराबर
अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर

हैरत से खुद को कभी देखता हूँ
और देखता हूँ कभी मैं हरम को
लाया कहाँ मुझ को मेरा मुक़द्दर
अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर

हम्दे-ख़ुदा से तर हैं ज़बानें
कानों में रस घोलतीं हैं अज़ानें
बस इक सदा आती है बराबर
अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर

मांगी है मैंने जितनी दुआएं
मंज़ूर होंगी, मक़बूल होंगी
मीज़ाबे-रहमत है मेरे सर पर
अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर

याद आ गई जब अपनी ख़ताएँ
अश्कों में ढलने लगी इल्तिजाएँ
रोया ग़िलाफ़े काअबा पकड़ कर
अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर

तेरे हरम की क्या बात मौला
तेरे करम की क्या बात मौला
ता-उम्र कर दे आना मुक़द्दर
अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर

भेजा है जन्नत से तुझ को ख़ुदा ने
चूमा है तुझ को मेरे मुस्तफ़ा ने
ऐ संगे-अस्वद तेरा मुक़द्दर
अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर

देखा सफा और मरवा भी देखा
रब के करम का जल्वा भी देखा
देखा वहाँ एक सरों का समंदर
अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर

मौला सबीह और क्या चाहता है
बस मग़फ़िरत की अता चाहता है
बख़्शिश के तालिब पे अपना करम कर
अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर

शायर:
सय्यिद सबीहुद्दीन रहमानी (सबीह)

नातख्वां:
सय्यिद सबीहुद्दीन रहमानी

Check out the YouTube Video of Kabe ki Ronak Kabe ka Manzar Lyrics

kabe ki ronak kabe ka manzar allahu akbar lyrics

Related More Naat Sharif Lyrics List:

Jazakallahu Khairan. hopefully, Kabe ki Ronak Kabe ka Manzar Lyrics Hindi & English is helpful to you and please let me know if you have any corrections or additions in the Contact us section.

If you have any issues regarding the Lyrics of this Naat Sharif Lyrics, please contact us. Thank You For Visiting my namazquran.com website, I hope you come! Again

Leave a Comment