Ramzan Ke Roze Ki Fazilat | रमजान के रोज़े की फ़ज़ीलत

Ramzan ke Roze ki Fazilat या Roze ki Fazilat जानना हर मोमिन के लिए जरूरी है; ताकि उसे रमजान की अहमियत का अंदाजा लग जाए और वह अल्लाह की इबादत की राह पर चलने लगे.

रमजान में रोजा रखना फर्ज़ है, इस्लाम के पांच मीनारों में एक मीनार रोजा रखना भी है; अगर कोई शख्स बिना किसी जायज वजह के रमजान के रोजे छोड़ता है तो उस पर आजाद पड़ता है.

Ramzan Kya Hai

नाज़रीन क्या आपने कभी इस बात पर गौर फरमाया है के रमज़ान क्या है या इसका मतलब क्या है , दोस्तों रमजान का मतलब है जो एक तरफ तो रोज़ा इंसान के बदन को जलाता है और दूसरी तरफ उसके तमाम पिछले गुनाहों को जलाकर राख कर देता है और जब रमज़ान की आखिरी रात आती है तो वो इंसान गुनाहों से ऐसे पाक हो जाता है। जैसे आज ही मा के पेट से पैदा हुआ हो।

रमजान में किन लोगो की बकसिश नहीं होती

दोस्तों रमज़ान के महीने मे अल्लाह तआला सिर्फ 4 लोगों को छोड़कर तमाम मुसलमानों को बख्श देते है और अगर वो अपने गुनाहों से सच्ची तौबा कर ले तो अल्लाह तआला अपने करम से उन्हे भी बख्श देते है । वो 4 आदमी या औरत कौन है ?

  • माँ-बाप की नाफरमानी करने वाला या उनके साथ बहुत बुरा सुलूक करने वाला ।
  • शराब पीने वाला ।
  • रिश्तेदारों के साथ बुरा सुलूक करने वाला या रिश्ते तोड़ने वाला या रिश्तों को आग लगाने वाला ।
  • कीना रखने वाला । (कीना का मतलब किसी से नफरत करना और उसे नुकसान पहुँचाना) और (बुगज़ का मतलब है किसी से नफरत करना) ।

अल्लाह हमे और आपको इन बुरे कामों से बचाए । और आने वाले रमजान मे हर मुसलमान की मग़फिरत फरमाए । ये भी Ramzan Ke Roze Ki Fazilat है के अल्लाह सिर्फ 4 लोगों को छोड़कर तमाम को इस मुबारक महीने की बरकत से बख्श देते है ।

Ramzan ke Roze ki Fazilat ki Hadees

Ramzan ke Roze ki Fazilat aur Hadees
Ramzan ke Roze ki Fazilat

तमाम हदीसों में Ramzan ke roze ki fazilat भर भर कर बयान की गई है; आज हम आपको एक ऐसी फज़ीलत हदीस की रोशनी में बता रहे हैं, जिसे हमारे नबी ने फरमाया है.

रसूल अल्लाह सल्ल ० फरमाते है के क़यामत के दिन रोज़ा और कुरान सिफारिश करेंगे । रोज़ा अल्लाह से कहेगा कि ऐ अल्लाह इस बंदे ने मेरी खातिर भूक और प्यास की शिद्दत को बर्दाश्त किया और नफ़सानी ख्वाहिशों से बचा रहा तो आप मेरी सिफारिश इसके हक मे कुबूल फरमाइए। रसूल अल्लाह सल्ल ० फरमाते है के इसकी सिफारिश कुबूल की जाती है ।
इसी तरह कुरान भी रोज़े क़यामत उसके पढ़ने वाले की सिफारिश करेगा और अल्लाह से कहेगा कि ऐ अल्लाह इस बंदे ने रात मे क़याम फरमाया और मेरी सूरतों को पढ़ा लिहाज़ा मेरी सिफारिश इसके हक मे कुबूल फरमा , तो अल्लाह तआला कुरान की सिफारिश को कुबूल फरमाते है और उस शख्स को बख्श देते है। (मुसनद अहमद और तबरानी)
हज़रत अबु हुरैरा से रिवायत है के रसूल सल्ल ० से अल्लाह फरमाते है कि इबने आदम का हर अमल उसके लिए है सिवाये रोज़े के यानि आदम अलै ० की औलाद का हर अमल उसकी अपनी जात से है और रोज़ा खास मेरे लिए है तो और इसका अजर मै दूंगा।

फिर आगे रसूल अल्लाह सल्ल ० ने फरमाया रोज़ा आग से ढाल है यानि रोज़ा जहन्नुम की आग से बचाएगा और जिस दिन तुम रोज़े से रहो तो बुरी बातों , बुरे कामों से और लड़ाई झगड़े से बचो अगर तुम जहन्नुम की आग से बचना चाहते हो । ये भी Ramzan Ke Roze Ki Fazilat कितनी बड़ी है के क़यामत के रोज अल्लाह तआला रोजेदारों को खुद उसका बदला देंगे और दौजख की आग से बचाएंगे। (मुस्लिम)
रसूल अल्लाह सल्ल ० फरमाते है के रोजेदार के मुँह की हवा अल्लाह तआला को क़यामत के दिन मुश्क की खुशबू से भी ज्यादा महबूब होगी । रोजेदार के लिए दो खुशियां है , पहली जब वो इफ्तार करता है और दूसरी तब मिलेगी जब वो अल्लाह से मिलेगा । यानि क़यामत के रोज अल्लाह उसे ऐसा इनाम अता फरमाएंगे जिसे पाने के बाद वो शख्स बहुत खुश होगा । अल्लाह तआला ने रोजेदारों का बदला छिपाकर रखा है यानि ये नबी को भी नहीं बताया के रोजेदार का बदला क्या होगा । लेकिन उस शख्स के लिए बहुत ही खास होगा और वो बहुत ही खुश होगा। (मुस्लिम शरीफ)

Ramzan Ke Roze Ki Fazilat क्या है

Ramzan ke Roze ki Fazilat kya hai
Ramzan ke Roze ki Fazilat kya hai
  • रोज़े का बदला अल्लाह देगा।
  • दोज़ख की आंग से हिफाजत होगी।
  • जन्नत नसीब होगी।
  • सेहत अच्छी होती है।
  • परहेजगारी पैदा होती है।
  • वज़न कम होता है।
  • ईमान ताजा होता है।
  • बिमारियां दूर होती हैं।
  • खताओं का माफ होना।
  • मगफिरत अता होगी।

रोज़े का बदला अल्लाह देगा

आंहजरत सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम ने फरमाया हक़ ताला यानी अल्लाह रब्बुल् इज्जत का इरशाद है; कि रोजा खास मेरे लिए है, और उसका बदला मैं खुद दूंगा.

आप आप रोजे की अहमियत को खुद ही समझ लीजिए कि इसका बदला खुद अल्लाह देगा; अब और क्या ही चाहिए एक सच्चे मोमिन को.

Ramzan ka chand dekhne ki Dua

दोज़ख की आंग से हिफाजत होगी

हम इंसान अपनी जिंदगी में सालों भर बहुत गुनाह करते हैं जिनका हमें खुद ही साथ नहीं होता लेकिन हम यह भूल जाते हैं कि हमारे रग अल्लाह के पास पल पल का हिसाब है.

गुनाह करने से आजाब हासिल होता है, और दोजख की आग में गुनहगार को जलाया जाता है; लेकिन रमजान का महीना एक ऐसा महीना है, जिसमें रोजा रखने से बंदा दोज़ख की आंग से बच जाता है.

Roza Rakhne ki Dua

जन्नत नसीब होगी

जन्नत जाने की तमन्ना हर के दिल में होती है लेकिन हर कोई जन्नत नहीं जा सकता जन्नत वही जाता है; जो उसके काबिल और जन्नत का हकदार होता है.

जो अपनी जिंदगी में अल्लाह को राजी करने में कामयाब हो जाता है, अल्लाह उसी को जन्नत में दाखिल करता है.

अल्लाह ने हमारे लिए रमजान का महीना भेजा है, ताकि हम इस महीने इबादत करके अल्लाह को राजी कर ले; और जन्नत जाना नसीब हो सके.

Roza Kholne ki Dua

सेहत अच्छी होती है

रोजा रखने से सेहत अच्छी होती है, यह बात साइंटिफिक प्रूवेन भी है, क्योंकि हम इंसान सालों भर खूब खाते हैं; लेकिन खाने से सिर्फ सेहत बनती ही नहीं बल्कि बिगड़ भी जाती है.

इंसानों में ज्यादातर जो बीमारियां होती हैं, वह पेट से ही होती है, जब हम ज्यादा खाना खाते हैं; तो हमारा पेट उस खाने को आसानी से पचा नहीं पाता जिससे वह गंदगी के रूप में शरीर में जमा हो जाता है, जिससे हमें कई बीमारियों का सामना करना पड़ता.

रमजान का रोजा रखने से हमारा जिस्म इन गंदगीयों को साफ कर देता है, और हम सेहतमंद हो जाते हैं.

Taraweeh Ki Dua

परहेजगारी पैदा होती है

रोज़ा रखने का मकसद परहेजगारी करना है, हदीसों में आया है, अल्लाह फरमाता है; कि रोज़ा तुम पर इस कदर फर्ज जैसे तुमसे पहले आई उम्मतों पर था.

रोज़ा का मतलबी होता है, रुक जा यानी हर किस्म की गुनाह से फिर वह गुनाह चाहे आंखों का हो, नाक का हो, मुंह का हो; हाथ का हो या पैर का हो हर गुनाह से बचना रोज़ा कहलाता है.

जब कोई शख्स रोजा रखता है, तो उसको यह फिक्र होती है, कि मुझे यह गलत काम नहीं करना है; नहीं तो अल्लाह नाराज हो जाएगा – तो इसे ही हम परहेजगारी कहते हैं, जो हमें जिंदगी में काफी फायदा पहुंचाती है.

Taraweeh ki Namaz ka Tarika

वज़न कम होता है

आज के समय में सबसे बड़ी बीमारी वजन का ज्यादा होना ही है; क्योंकि हम आजकल बिना कुछ सोचे समझे जैसा मर्जी वैसा खाना खाते रहते हैं.

जिससे हमारे शरीर में गलत खाने की चीजें भी चली जाती हैं, और वह हमारे जिस्म में गंदगी के रूप में जमा होती रहती हैं; जिससे हमारे शरीर को काफी नुकसान उठाना पड़ता है.

जब गंदगी जमा हो जाती है, तो वह मोटापा का रूप लेने लगती है, और जब कोई शख्स रोज़ा रखता है, तो वह भूखा होता है; जिस वजह से हमारा जिस्म उस गंदगी को खुद खाने लगता है, और हमारा जिस्म धीरे-धीरे साफ हो जाता है.

जिस्म के साफ होते ही हमारा वजन अपने आप ही कम होते रहता है, और हम सेहतमंद हो जाते हैं; और भी कई फायदे हमें हमारे जिस्म में देखने को मिलते हैं.

Ghar par Taraweeh ki Namaz Padhne ka Tarika

ईमान ताजा होता है

रमजान के महीने में हमारे चारों तरफ इबादत का माहौल होता है, हर कोई इबादत कर रहा होता है; और अपने रब को राज़ी करने की कोशिश कर रहा होता है.

ऐसे में उस इंसान का भी ईमान ताजा हो जाता है, जो पूरे साल इबादत नहीं करता लेकिन औरों को देखकर; रमजान की रहमतों को देखकर उसके दिलों में भी ईमान जागता है, और वह भी इबादत में लग जाता है.

और यही रमज़ान की खूबसूरती है, अल्लाह हम सभी को रमजान में इबादत करने की तौफीक अता फरमाए आमीन !

बिमारियां दूर होती हैं

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया जिस्म में 90 % बीमारियां पेट से ही आती है; क्योंकि हम साल भर गलत चीजों का इस्तेमाल करते हैं, जिसका हमें खामियाजा आगे चलकर भुगतना पड़ता है.

ऐसे में रोजा रखने से हमारा जिस्म खुद को साफ करता है, और पहले जैसा मजबूत कर देता है; जिससे हम सेहतमंद हो जाते हैं, और बीमारियां हमसे दूर रहती हैं.

खताओं का माफ होना

हम आए दिन बहुत सी खताएं करते हैं, जिससे हमें दुनिया में तो दिक्कत का सामना करना ही पड़ता है; साथ ही आखरत के लिए भी वह परेशानी का सबक बन जाती है, ऐसे में हमें अपने खताओ की माफी हमेशा मांगते रहना चाहिए.

हदीस शरीफ में आया है, रमज़ान के महीने में अल्लाह ताआला मुसलमानों की तरफ मुतवज्ज़ह होता है; और खताओं को माफ फरमा देता है.

मगफिरत अता होगी

Ramzan ke roze ki fazilat में सबसे बड़ी फजीलत यह भी है कि इस महीने रोजा रखने से और अल्लाह की इबादत करने से मग फिरत हासिल होती है.

हदीसों में आया है, की रमजान में तीन अशरे होते हैं, जिसमें दूसरे अशरे में मगफिरत नसीब होती है; इसलिए दूसरे अशरे में हमें मगफिरत की दुआ मांगनी चाहिए.

आज आपने क्या जाना?

रमजान का महीना काफी मुबारक महीना होता है, और इस महीने में खूब रहमतें नाज़ील होती हैं; आज किस पोस्ट में हमने आपको Ramzan ke roze ki fazilat बताई उम्मीद है! आपको आपके सवालों के जवाब मिल गए होंगे.

NOTE – दोस्तों आप से गुजारिश है, कि आप इस पोस्ट को अपने व्हाट्सएप, फेसबुक पर शेयर जरूर करें; ताकि तमाम मुसलमानों को Ramzan ke roze ki fazilat की मालूमात हो जाए और वह रोजा रखें.

आपको यह पोस्ट कैसी लगी और आप हमें क्या सलाह देना चाहते हैं? कमेंट में जरूर बताएं अल्लाह हाफिज !!!

5/5 - (1 vote)

Leave a Comment